बुधवार, 21 जनवरी 2009

नव वर्ष अभिनंदन


नव वर्ष की शुभ कामनाएँ।

कामनाएँ जीवन का आवश्यक तत्व हैं, इन्हें भारतीय जीवन दर्शन में धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष में तीसरे सोपान पर रखा गया हैं। कामनाओं में जो 'काम' है वही हमें काम करने की प्रेरणा देता है और उसको पूरा करने का साहस भी। शुभ में शुचिता, सुंदरता और कल्याण के अनेक अर्थ छुपे हैं। कामनाएँ कमनीय हों, कल्याणकारी हों और पवित्र हों तो फिर कहना ही क्या! आज की शुभ कामनाएँ हमें अच्छे कामों में लगाएँ और जीवन को शुभ बनाएँ!
लंबे समय के बाद लौटी हूँ शायद यह सिलसिल इस बार थोड़ा बेहतर रहे।

कुछ नए दोहे प्रस्तुत हैं-

विपदा से हारा नहीं झेला उसे सहर्ष
तूफ़ानों को पार कर पहुँचा है नव वर्ष

नभ मौसम सागर सभी करें कृपा करतार
जंग और आतंक की पड़े कभी ना मार

बागों में खिलते रहें इंद्रधनुष के रंग
घर-घर में बजते रहें खुशियों वाले चंग

एक बार फिर नए साल की मंगल कामनाएँ!

4 टिप्‍पणियां:

Manoshi ने कहा…

क्या बात है पूर्णिमा दी, बहुत सुंदर।

Udan Tashtari ने कहा…

आपको भी नव वर्ष बहुत मंगलकारी हो. अनेक शुभकामनाऐं.

विनय ने कहा…

बहुत ख़ूब , मन भावन

---आपका हार्दिक स्वागत है
चाँद, बादल और शाम

संगीता पुरी ने कहा…

आपको भी नए साल की मंगल कामनाएँ!