रविवार, 11 नवंबर 2007

नाम लो मेरा

इन घनी अमराइयों में
इन हरी तराइयों में
फिर पुकारो मुझे
नाम लो मेरा
कि गूँजे यह धरा

रौशनी का एक शीशा साफ़ कर दो
फिर अंधेरा चीर कर उस पार कर दो
भेद कर आकाश की तनहाइयों को
फिर पुकारो मुझे
नाम लो मेरा
कि गूँजे यह धरा

हर दिशा को एक सूरज दान कर दो
फिर उजालों में नई पहचान भर दो
फूँक कर इस हवा में शहनाइयों को
फिर पुकारो मुझे
नाम लो मेरा
कि गूँजे यह धरा

बादलों में दर्द है कुछ टीसता है
सर्द आतिश में कहीं कुछ भीगता है
पार कर के हृदय की गहराइयों को
फिर पुकारो मुझे
नाम लो मेरा
कि गूँजे यह धरा

6 टिप्‍पणियां:

दीपक भारतदीप ने कहा…

पूर्णियां जी
हिन्दी में आपके द्वारा किये गये प्रयास सराहनीय है,मुझे याद है जब
जीवन से हताश मेरे एक लेखक मित्र ने मुझे आपकी अभिव्यकति का पता
दिया था और उसके बाद अंतरजाल पर मेरी लेखन यात्रा शुरू हुए थी। आज आपका
ब्लॉग और आपकी रचनाएं देखकर बहुत प्रसन्नता हुई। बहुत बढिया रचनाएं हैं
दीपक भारतदीप

नीरज गोस्वामी ने कहा…

पूर्णिमा जी
बहुत भावपूर्ण गीत के लिए आप को बधाई
आप को पढ़ना हमेशा एक सुखद अनुभव प्राप्त करवाता है.
हाल ही मैं भाई चाँद हदियाबदी ने आप के द्वारा बनाईं चित्रकारी पर लिखी दीपक पर एक कविता भेजी है जिसका अनुवाद उन्होंने मैं डेनिश मैं किया है.कविता और चित्र दोनों अदितीय हैं.
नीरज

मीत ने कहा…

"हर दिशा को एक सूरज दान कर दो
फिर उजालों में नई पहचान भर दो
फूँक कर इस हवा में शहनाइयों को ......................."

"बादलों में दर्द है कुछ टीसता है
सर्द आतिश में कहीं कुछ भीगता है
पार कर के हृदय की गहराइयों को ..................."

हद है. पूर्णिमा जी, कल पहली बार आपकी एक रचा पढने का मौक़ा मिला .. ज़हन पे छा गयी वो कविता. और आज ये .................. बस कमाल है. इस तरह का कुछ ... एक अरसे से नहीं पढ़ा था .... इंटरनेट पर तो हरगिज़ नहीं. बहुत बहुत शुक्रिया ..

परमजीत बाली ने कहा…

बहुत बढिया रचना है।बधाई।

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

फूँक कर इस हवा में शहनाइयों को
फिर पुकारो मुझे
नाम लो मेरा
कि गूँजे यह धरा
बहुत सुंदर

prabhakar ने कहा…

बहुत सुंदर कविता है मैडम
बिना अटके पढ़ डाली और भाव उतरते गये